बूढ़ी माँ और कान्हा जी

एक गाँव में एक बूढ़ी माई रहती थी । माई का आगे – पीछे कोई नहीं था इसलिए बूढ़ी माई बिचारी अकेली रहती थी । एक दिन उस गाँव में एक संत आए । बूढ़ी माई ने महात्मा जी का बहुत ही प्रेम पूर्वक आदर सत्कार किया । जब महात्मा

पूरी कहानी पढ़ें.....

तीन सवाल

एक ब्राह्मण था, वह घरों पर जाकर पूजा पाठ कर अपना जीवन यापन किया करता था। एक बार उस ब्राह्मण को नगर के राजा के महल से पूजा के लिये बुलावा आया। वह ब्राह्मण राजमहल का बुलावा पाकर खुशी-खुशी पूजा करने गया। पूजा सम्पन्न कराकर जब ब्राह्मण घर को आने

पूरी कहानी पढ़ें.....

एक चतुर भिखारी

एक बहुत अमीर आदमी ने रोड के किनारे एक भिखारी से पूछा.. “तुम भीख क्यूँ मांग रहे हो जबकि तुम तन्दुरुस्त हो…??” भिखारी ने जवाब दिया… “मेरे पास महीनों से कोई काम नहीं है…अगर आप मुझे कोई नौकरी दें तो मैं अभी से भीख मांगना छोड़ दूँ” अमीर मुस्कुराया और

पूरी कहानी पढ़ें.....

भगवान के भरोसे

एक गाँव में एक साधू रहते थे जो दिन रात कड़ी तपस्या करते थे और उनका भगवान पर अटूट विश्वास था| एक बार गाँव में भयंकर तेज बारिश हुई| बढ़ते हुए पानी को देखकर गाँव वाले सुरक्षित स्थान पर जाने लगे| लोगों ने उस साधू को सुरक्षित स्थान पर चलने

पूरी कहानी पढ़ें.....

माँ दुर्गा की उत्पत्ति की पूरी कहानी

मां दुर्गा को आदि शक्ति, भवानी और अन्य कई नामों से जाना जाता है । पौराणिक कथाओं के अनुसार मां का जन्म देत्यों के विनाश के लिए हुआ था वैसे तो सारा साल ही माता की पूजा की जाती है लेकिन नवरात्रों के दौरान इनके विशेष पूजन व उपाय किए

पूरी कहानी पढ़ें.....
error: Content is protected !!