बीरबल ने चोर को पकड़ा

एक बार राजा अकबर के प्रदेश में चोरी हई। इस चोरी में एक चोर ने एक व्यापारी के घर से बहुत ही कीमती सामान चुरा लिया था। उस व्यापारी को इस बात पर तो पूरा विश्वास था कि चोर उसी के 10 नौकरों में से कोई एक था पर वह यह नहीं जानता था की वह कौन है।

यह जानने के लिए की चोर कौन है! वह व्यापारी बीरबल के पास गया और उसने बीरबल से मदद मांगी। बीरबल ने भी इस बात पर हाँ कर दिया और अपने सिपाहियों से कहा कि सभी 10 नौकरों को कारागार/जेल में डाल दिया जाये। यह सुनते ही उसी दिन सिपाहियों द्वारा सभी नौकरों को पकड़ लिया गया। बीरबल ने सबसे पुछा कि चोरी किसने किया है परन्तु किसी ने भी यह मानने से इंकार कर दिया की चोरी उसने किया है।

बीरबल ने थोड़ी देर सोचा, और कुछ देर बाद वह दस समान लम्बाई की छड़ी ले कर आये और सभी चुने हुए लोगों को एक-एक छड़ी पकड़ा दिया। पर छड़ी पकडाते हुए बीरबल ने एक बात कहा! उस इंसान की छड़ी 2 इंच बड़ी हो जाएगी जिस व्यक्ति ने यह चोरी की है। यह कह कर बीरबल चले गए और अपने सिपाहियों को निर्देश दिया की सुबह तक उनमें से किसी भी व्यक्ति को छोड़ा ना जाये।

जब बीरबल ने सुबह सभी नौकरों की छड़ी को ध्यान से देखा तो पता चला उनमें से एक नौकर की छड़ी 2 इंच छोटी थी। यह देखते ही बीरबल ने कहा! यही है चोर

बाद में यह देख-कर उस व्यापारी ने बीरबल से प्रश्न किया कि कैसे उन्हें पता चला की चोर वही है। बीरबल ने कहा कि चोर ने अपने छड़ी को 2 इंच बड़े हो जाने के डर से रात के समय ही अपनी छड़ी को 2 इंच छोटा कर दिया था।

शिक्षा:-

सत्य कभी नहीं छुपता इसलिए जीवन में कभी भी झूट मत बोलो।

यह पोस्ट शेयर करें :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!